जीवन बीमा में मृत्यु लाभ क्या है? | What is death benefit in Life Insurance in Hindi

मृत्यु लाभ क्या है?, मृत्यु लाभ पर टैक्स बेनिफिट, क्या कवर किया जाता है? और क्या क्या नहीं कवर किया जाता है? (What is death benefit in life insurance?, tax benefits on death, Death Benefit Definition in Hindi)

जब परिवार के किसी सदस्य के भविष्य की रक्षा करने की बात आती है, तो जीवन बीमा प्लान भारतीय लोगो के बीच आम और सबसे पसंदीदा साधनों में से एक है। जीवन बीमा कई लाभों के साथ आता है क्योंकि यह आपके अपनों के साथ न होने के बाद आर्थिक रूप से आपकी मदद करता है।

अधिकांश जीवन बीमा प्लान्स में एक मृत्यु लाभ शामिल होता है, जो बीमाधारक की मृत्यु के बाद बीमाधारक के नॉमिनी/लाभार्थी को भुगतान करता है। उस राशि का उपयोग बीमाधारक का लाभार्थी लोन चुकाने, खोई हुई आय को बदलने और अंतिम संस्कार के खर्चों को कवर करने के लिए कर सकता है। लेकिन इसके अलावा भी बहुत कुछ है जो आपको मृत्यु लाभों के बारे में जानना चाहिए।

मृत्यु लाभ क्या है? (What is death benefit?)

मृत्यु लाभ बीमाधारक की मृत्यु पर उसके नॉमिनी या लाभार्थी को प्रदान की जाने वाली गारंटीकृत या सुनिश्चित राशि होती है। जीवन बीमा में बीमाधारक की मृत्यु होने पर मृत्यु लाभ का भुगतान अधिकांश स्थितियों में दावा (Claim) दायर करने के 30 दिनों अर्थात एक महीने के अन्दर किया जाता है। बीमाधारक के लाभार्थी के पास भुगतान के प्रकार का चयन करने का विकल्प होता है। वह एक बार में एकमुश्त राशि प्राप्त करना चुन सकता हैं या बड़ी समया अवधि में छोटी छोटी राशि प्राप्त करना चुन सकता हैं।

मृत्यु लाभ में क्या क्या कवर किया जाता है?

किसी जीवन बीमा प्लान के लिए खरीदने या अप्लाई करने से पहले पता होना चाहिए कि मृत्यु के बाद जीवन बीमा में क्या क्या कवर किया जाता है:

  • यदि किसी कारणवश बीमाधारक आत्महत्या कर लेता है, तो मृत्यु लाभ का भुगतान बीमाधारक के लाभार्थी को तब प्रदान किया जाएगा, जब जीवन बीमा का कम से कम एक वर्ष पूरा होता है। और यदि आत्महत्या एक वर्ष के अन्दर होती है, तो बीमाधारक के लाभार्थी को मृत्यु लाभ का भुगतान नहीं किया जाता है।
  • यदि बीमाधारक की मृत्यु किसी दुर्घटना के कारण होती है, तो मृत्यु लाभ का भुगतान किया जाता है। बशर्ते दुर्घटना के समय बीमाधारक नशे में नहीं होना चाहिए। यदि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट कुछ और बताती है, तो मृत्यु लाभ माफ कर दिया जाएगा।
  • यदि बीमाधारक की मृत्यु स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं या जीवन बीमा में शामिल प्राकृतिक कारणों से होती है, तो बीमाधारक के लाभार्थी को मृत्यु लाभ का भुगतान किया जाता है।

मृत्यु लाभ में क्या क्या कवर नहीं किया जाता है?

कुछ प्रकार की मौतें होती हैं जो सामान्य टर्म पॉलिसी में शामिल नहीं होती हैं। जो कुछ इस प्रकार हैं-

  • यदि बीमाधारक की मृत्यु खतरनाक गतिविधियों या स्वयं को लगी चोटों के कारण होती है।
  • यदि बीमा खरीदने के पहले साल के भीतर बीमाधारक की आत्महत्या के कारण मृत्यु हो जाती है।
  • यदि शराब या नशीली दवाओं के सेवन से बीमाधारक की मृत्यु हो जाती है।
  • यदि किसी प्राकृतिक आपदा जैसे सुनामी या भूकंप के कारण बीमाधारक की मृत्यु हो जाती है।
  • यदि बीमाधारक की मृत्यु किसी यौन संचारित रोग, जैसे कि एड्स के कारण हो जाती है।

जीवन बीमा में मृत्यु लाभ पर टैक्स बेनिफिट

इनकम टैक्स एक्ट की धारा 10(10D) के अनुसार, निश्चित राशि और पॉलिसी धारक की परिपक्वता या मृत्यु पर प्राप्त बोनस कुछ शर्तों के अधीन पूरी तरह से टैक्स फ्री है। आपको जीवन बीमा के लिए भुगतान किए गए प्रीमियम पर भी टैक्स बेनिफिट मिलता है।

कैश वैल्यू (Cash Value)

संपूर्ण जीवन बीमा एक ऐसी पॉलिसी है जहां आपका बीमा जीवन भर चलेगा। इसमें, आपके द्वारा भुगतान किए गए प्रीमियम के एक हिस्से को बचत खाते में कैश वैल्यू के एक घटक के रूप में सुरक्षित किया जाएगा। आपकी मृत्यु के मामले में, आपके नॉमिनी व्यक्ति/लाभार्थी को यह कैश वैल्यू मृत्यु लाभ के साथ मिलेगा।

अगर आपको तत्काल कैश की जरूरत है, तो आपके पास अपनी बीमा पालिसी को रद्द करने का विकल्प भी है, जहां कैश वैल्यू का भुगतान आपको पूरी तरह से किया जाएगा। इसका मतलब है कि योजना को रद्द करने से आप पॉलिसी से संबंधित सभी लाभों को सरेंडर कर देंगे।

Leave a Comment