मनी बैक प्लान क्या है? | Money back policy in Hindi

मनी बैक प्लान क्या है, कैसे काम करती है, क्या क्या लाभ है, और विशेषताये (what is Money back policy in hindi, Money back policy features in hindi, Money back policy benefits in hindi)

मनी बैक पॉलिसी इसे सामान्य रूप से चाइल्ड मनी बैक प्लान के रूप में भी जाना जाता है। यह एक जीवन बीमा पॉलिसी है। इस पॉलिसी की अवधि के अन्त में परिपक्वता/सर्वाइवल बेनिफिट्स के रूप में लाइफ इंश्योरेंस प्रदान किया जाता है। इस पॉलिसी को सामान्य रूप से बच्चों के लिए खरीदा जाता है, जिसमे निवेश के साथ साथ जीवन बीमा का लाभ भी मिलता है।

मनी बैक प्लान क्या है? (What is Money Back policy in Hindi)

मनी बैक पॉलिसी एक प्रकार का जीवन बीमा प्रोडक्ट है। जो बीमाधारक को नियमित रिटर्न प्राप्त करने में मदद करता है। मनी बैक प्लान भारत के सबसे लोकप्रिय लाइफ इंश्योरेंस प्लान में से एक है। इस प्रकार की पॉलिसी में जीवन बीमा और निवेश दोनो शामिल है।

मनी बैक प्लान उन लोगों या व्यक्तियों के लिए है, जो अपने इन्वेसमेंट पर गार्ंटिड रिटर्न प्राप्त करना चाहते है। यह अन्य जीवन बीमा पॉलिसी से अलग है। इसमें मनी बैक प्लान एक अमाउंट का भुगतान करना शुरू कर देती है, जिसे पॉलिसी के जीवनकाल में सर्वाइवल बेनिफिट्स कहा जाता हैं।

सर्वाइवल बेनिफिट्स मनी बैक प्लान में शुरुआत के कुछ वर्षो के बाद दिया जाता हैं। और यह पॉलिसी मैच्योरिटी तक जारी रहती है। यह बेनिफिट तभी दिया जाता है जब बीमाधारक जीवित रहता है। यदि बीमाधारक की किसी कारणवश मृत्यु हो जाती है, तो सर्वाइवल बेनिफिट्स नही मिलता है। ऐसी परिस्थिति में बीमाधारक के लाभार्थी को पूरी मैच्योरिटी राशि प्रदान की जाती है। ऐसे में मनी बैक प्लान भविष्य में नियमित आय और बड़े खर्चों की योजना बनाने का एक अच्छा विकल्प है।

मनी बैक प्लान कैसे काम करता है?

बीमाधारक अलग अलग कंपनियों के मनी बैक प्लान की तुलना करके अपने लिए एक बीमा पॉलिसी खरीद सकता है। उसके बाद बीमाधारक को नियमित प्रीमियम का भुगतान करना होता है।

बीमा पॉलिसी खरीदने के बाद बीमाधारक के मृत्यु के मामले में बीमाधारक के लाभार्थी को एक गारंटीकृत राशि का भुगतान किया जाता है। जिसे डेथ बेनिफिट के रूप में जाना जाता है। इसके अलावा यदि बीमाधारक पॉलिसी अवधि तक जीवित रहता है तो उसे परिपक्वता राशि का भुगतान किया जाता है।

इसके अतिरिक्त बीमाधारक को पॉलिसी अवधि में नियमित अंतराल पर सर्वाइवल बेनिफिट्स का भी भुगतान किया जाता हैं। यह प्लान एंडोमेंट पॉलिसी के रूप में भी जाना जा सकता है।

उदाहरण: मान लीजिए कोई व्यक्ति एक मनी बैक प्लान 25 साल के लिए खरीदता है, तो उसे बीमा कंपनी 5 साल बाद सर्वाइवल बेनिफिट्स का लाभ देना शुरू कर देती है। और यह लाभ बीमा कंपनी हर 5 साल पर भुगतान करती है। इस स्थिति में बीमाधारक को बीमा कंपनी 5वे, 10वे, 15वे, और 20वे साल सर्वाइवल बेनिफिट्स देती है। उसके बाद बाकी सर्वाइवल बेनिफिट्स कंपनी बीमा पॉलिसी परिपक्वता लाभ के रूप में देती है। इस भुगतान से बीमाधारक को बड़े खर्चे करने में मदद मिलती हैं।

मनी बैक पॉलिसी के लाभ (Benefits of Money Back Policy in Hindi)

सर्वाइवल बेनिफिट्स

पॉलिसी के दौरान, पॉलिसीधारक को हर कुछ सालो में पैसे का भुगतान किया जाता है। भुगतान पॉलिसी की शुरुआत के कुछ सालों के अंदर शुरू होता है और पॉलिसी अवधि की परिपक्वता तक चलता रहता है।

टैक्स बेनिफिट

IT अधिनियम की धारा 80C के तहत आपको टैक्स कटौती करने की अनुमति प्रदान है। प्रति वर्ष आपकी टैक्स योग्य आय से जीवन बीमा प्रीमियम में 1,50,000 की छूट मिलती है। इसके अलावा, धारा 10(10)D मनी बैक पॉलिसी के परिपक्वता लाभ पर छूट देती है।

डेथ बेनिफिट

मनी बैक योजना के परिपक्व होने पर बीमित व्यक्ति को परिपक्वता लाभ प्राप्त होता है। सम एश्योर्ड यह पूरी कवर राशि है जिसे बीमित व्यक्ति पॉलिसी की शुरुआत में चुनता है। बोनस इसमें बीमाकर्ता के घोषित प्रत्यावर्ती लाभ शामिल हैं जो समय के साथ जमा हुए हैं। यह काफी हद तक कंपनी के प्रदर्शन से निर्धारित होता है।

मनी बैक पॉलिसी की विशेषताए (Money back policy features in Hindi)

पॉलिसी अवधि के दौरान आय

मनी बैक पॉलिसी यह सुनिश्चित करती है कि बीमाधरक हर कुछ वर्षों में रिटर्न या वादा की गई राशि का भुगतान प्राप्त करेगा। इस प्रकार, सर्वाइवल बेनिफिट्स मूल्य हर कुछ वर्षों में जमा होता है और पॉलिसीधारकों को इनकम का दूसरा स्रोत प्रदान करता है।

बोनस राशि

मनी बैक पॉलिसी बीमाधारक की इनकम में बोनस के रूप में योगदान करती है। प्रत्येक साल बोनस की गणना बीमा प्रदाता द्वारा सम एश्योर्ड के प्रतिशत के रूप में की जाती है, और संचित की जाती है। जब पॉलिसी परिपक्व हो जाती है या पॉलिसीधारक की मृत्यु हो जाती है, तो संचित बोनस को कुल देय भुगतान में जोड़ दिया जाता है।

गारंटीड रिटर्न

मनी बैक प्लान का मतलब है कि बीमाधारक को एक निश्चित अवधि के बाद सर्वाइवल बेनिफिट्स के रूप में पैसा वापस कर दिया जाता है। जब पॉलिसीधारक पॉलिसी की अवधि तक जीवित रहता है, तो धनवापसी की गारंटी दी जाती है। पॉलिसीधारक की मृत्यु की स्थिति में उसके लाभार्थी को गारंटीकृत राशि के साथ-साथ कोई संचित बोनस (यदि कोई हो तो) प्राप्त होता है। यह चाइल्ड मनी बैक प्लान पर भी लागू होता है।

कवर बढ़ाने के लिए राइडर्स

ज्यादातर बीमा कंपनी वैकल्पिक ऐड-ऑन राइडर्स देती हैं जिन्हें बीमाधारक अपनी मनी-बैक पॉलिसी में ‘ऐड-ऑन’ कर सकता है, जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है। ये राइडर्स जानलेवा बीमारियों, व्यक्तिगत दुर्घटनाओं, या टर्म राइडर्स जैसी चिकित्सीय स्थितियों से संबंधित हो सकते हैं।

Leave a Comment